Clicky

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट)

हिंदी, दवा, ड्रग, उसे, जानकारी, प्रयोग, फायदे, लाभ, उपयोग, दुष्प्रभाव, साइड-इफेक्ट्स, समीक्षाएं, संयोजन, पारस्परिक क्रिया, सावधानिया तथा खुराक

अंतिम चरण!
धन्यवाद!

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - प्रयोग, फायदे, उपयोग, संयोजन, दुष्प्रभाव और समीक्षाएं

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) यौन उत्तेजक, मूत्र संबंधी विकार, उच्च रक्त चाप, पेशाब में जलन, जनन मूत्रीय विकार, जठरशोथ और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए निर्देशित किया जाता है। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) इस दवा गाइड में सूचीबद्ध नहीं किए गए उद्देश्यों के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) निम्नलिखित सक्रिय सामग्रियां शामिल करता है: Aconitum Heterophyllum, Acorus Calamus, Andrographis Paniculata, Asphaltum, Baliospermum Montanum, Bambusa Bambos, Berberis Aristata, Cedrus Deodara, Cinnamomum Camphora, Cinnamomum Tamala, Cinnamomum Zeylanicum, Commiphora Mukul, Coriandrum Sativum, Curcuma Longa, Cyperus Rotundus, Elettaria Cardamomum, Embelia Ribes, Emblic Myrobalan, Hordeum Vulgare, Iron Bhasma, Operculina Turpethum, Piper Chaba, Piper Longum, Piper Nigrum, Plumbago Zeylanica, Purified Copper Iron Sulphate, Rock Salt, Sochal Salt, Sugar, Swarjika Kshara, Terminalia Bellirica, Terminalia Chebula, Tinospora Cordifolia, Vida Namak and Zingiber Officinale। यह टैबलेट के रूप में उपलब्ध है। Patanjali Ayurved Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) निर्मित करता है। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) के प्रयोगों, संयोजन, खुराक, दुष्प्रभावों और समीक्षाओं से संबंधित विस्तृत जानकारी नीचे सूचीबद्ध की गयी है:

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - उसे, प्रयोग, फायदे, तथा उपयोग

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का प्रयोग निम्नलिखित बीमारियों, स्थितियों और लक्षणों के उपचार, नियंत्रण, रोकथाम और सुधार के लिए किया जाता है:
संदर्भ: 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 18, 19, 20, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 27, 28, 29, 30, 31, 32, 33, 34, 35, 36, 37, 38, 39
रिपोर्ट:
और अधिक जाने: प्रयोग

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - संचालन, क्रियाविधि, और दवा विज्ञान / वर्किंग, मैकेनिज्म ऑफ़ एक्शन एंड फार्माकोलॉजी

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) निम्नलिखित क्रियाएं करके मरीज की स्थिति में सुधार करता है:
  • सीरम कोलेस्ट्रॉल को कम करना.
  • मुक्त कणों को हटाना और लिपिड पेरोक्सीडेशन की शुरुआत करना.
  • इंसुलिन के उत्पादन में सुधार करना;ग्लूकोज की सहिष्णुता बढ़ाना;हाइपोटेंशन, डायूरेसिस गतिविधि रखना;एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि रखना;कैंसररोधी गतिविधि रखना;रोगाणुरोधी गतिविधि रखना;प्रदाहरोधी क्रिया रखना.
  • विभिन्न बीमारियों का इलाज करना.
  • रक्त शुद्ध करने की क्षमता रखना;बीटेन सामग्री के कारण एमेनागॉग गुण रखना;महत्वपूर्ण प्रदाहरोधी गतिविधि रखना.
  • सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप को कम करना;फाइब्रोनोलिसिस की समानता में वृद्धि करना.
  • जीवाणुओं के विकास को रोकना और रक्त ग्लूकोज का स्तर कम करना.
  • वाष्पशील तेलों की उपस्थिति के कारण जीवाणुरोधी गतिविधि रखना;जीवाणुनाशक गतिविधि रखना.
  • महत्वपूर्ण ल्यूकेमिक-रोधी गतिविधि प्रदर्शित करना;खुराक पर निर्भर तरीके से रोगाणुरोधी गतिविधि प्रदर्शित करना;मुक्त कणों की अपमार्जन गतिविधि करना;कृमिनाशक गतिविधि रखना.
  • गैस्ट्रिक एसिड की मात्रा कम करना;फॉर्मेलिन प्रेरित सूजन कम करना;कार्बन टेट्राक्लोराइड प्रेरित यकृत की विषाक्तता के खिलाफ हेपेटोप्रोटेक्टिव गतिविधि का उत्पादन करना;विभिन्न बीमारियों का उपचार करना.
  • विभिन्न पाचन और अन्य विकारों का इलाज करना.
  • पेट के पाचन बिना पाचन में सुधार करना;जोड़ के विकारों का इलाज करना;उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करना;ऑस्टियोपोरोसिस को कम करना;ठीक ढंग से काम करने के लिए मांसपेशियों की मदद करना;विभिन्न बीमारियों का इलाज करना.
  • पाचन प्रणाली में सुधार करने में मदद करना;रक्त परिसंचरण को उत्तेजित करना और पीएच संतुलन बनाए रखना;रक्तचाप को स्थिर करना;वजन कम करने के लिए खाने की इच्छा को रोकना;कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का उपचार करना या इन्हें रोकना.
  • मधुमेह और इसकी जटिलताओं को नियंत्रित करना;एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि रखना;बीटा ग्लूकेन घटक की उपस्थिति के कारण कोरोनरी धमनी रोग के जोखिम को कम करना.
  • सूक्ष्मजीवों के विकास को रोकना.
  • पिपरिन, पीपरलाग्यूमिन, सिल्वाटिन, सेसमीन, डायएडेडिसिन पाइपरलोंग्युमिनिन, पाइपरमोनेलिन, और पीपरुंडैलिकिन घटकों की उपस्थिति के कारण गतिविधियों को नियंत्रित करना.
  • आहार को पूरा करना और पोषक तत्व प्रदान करना.
  • प्रोस्टाग्लैंडीन और ल्यूकोट्रिन संश्लेषण को रोकना.
  • मूत्र उत्पादन में वृद्धि करना;जठरांत्र गतिशीलता को नियंत्रित करना;दस्तरोधी गतिविधि रखना.
  • यकृत और अग्न्याशय के थियोबारबिट्यूरिक एसिड-प्रतिक्रियाशील पदार्थों की मात्रा कम करना;रक्त ग्लूकोज, कुल सीरम कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करना, और उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन-कोलेस्ट्रॉल के स्तरों में वृद्धि करना.
  • प्रतिरक्षा को बढ़ाना;कीटाणुजनित संक्रमणों के विरुद्ध कार्य करना;कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम का समर्थन करना;तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाना.
  • हाइपोलिपिडेमिक, हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव रखना;पैंक्रिअटिक लाइपेस पर मजबूत निरोधात्मक गतिविधि रखना;गैलिक एसिड की मध्यस्थता वाले अवशोषण को कम करना.
  • टी लिम्फोसाइट मध्यस्थता वाले साइटोटोक्सीसिटी को अवरोधित करना;गैस्टिक खाली करने का समय बढ़ाना;त्रिदोष के एंटीबॉडी के उत्पादन में वृद्धि करना.
  • विभिन्न रोगों से बचने या उपचार करने में मदद करना.
  • प्लाम्मागिन, जेलनोन, ग्लूकोज, आइसोजेलानोन, सीटोस्टेरोल स्टिगमेस्टरोल, कैप्स्टरोल, डाइहाइड्रोफ्लेवोनोल, एलेप्टीनोन और ड्रोसरोन की उपस्थिति के कारण गतिविधियों को नियंत्रित करना.
  • खुराक पर निर्भर तरीके से कार्सिनोजेनेसिस को रोकना;खुराक पर निर्भर तरीके से प्लेटलेट-सक्रिय कारक से प्रेरित प्लेटलेट्स के एकत्रीकरण को रोकना;यकृत माइक्रोसोमल एंजाइम के निषेध के माध्यम से हेपेटोप्रोटेक्टिव गतिविधि रखना.
  • कफ साफ करना;प्रदाहरोधी गतिविधि का प्रदर्शन करना.
  • अमीलॉइड के स्तरों और ऑक्सीकृत प्रोटीन को कम करना.
  • शरीर से अवांछित तरल पदार्थ को बाहर निकालना.
  • मुक्त कणों को हटाना;इंसुलिन के स्राव को बढ़ाना और ग्लूकोनियोजेनेसिस और ग्लाइकोजेनोलिस को बाधित करना;हड्डी का निर्माण करने वाली कोशिकाओं के विकास को उत्तेजित करना;एचआईवी वायरस के प्रतिरोध को कम करना;सीरम ट्रांसमीनेज के स्तरों को कम करना.
  • साइक्लोऑक्सीजेनेस एंजाइम की गतिविधि को रोकना;लिपिड पेरोक्सिडेशन के स्तरों को कम करना और एंटीऑक्सीडेंट एंजाइमों को बढ़ाना;रक्त ग्लूकोज के स्तरों को कम करना;प्रो-इंफ्लेमेटरी साइटोकिंस और ग्रैन्यूलोसाइट-मैक्रोफेज कॉलोनी-उत्तेजक कारक के सीरम स्तरों को कम करना.
  • पाचन में सुधार करना, प्राकृतिक विषाक्त पदार्थों को नष्ट करना और यकृत की उचित क्रिया का समर्थन करना.
  • जीवाणुओं के विकास को रोकना;इंसुलिन के उत्सर्जन को नियंत्रित करना;वायुमार्ग साफ करना.
  • अस्थायी अभिग्राहक क्षमता माध्यमों को सक्रिय करना.
संदर्भ: 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 16, 18, 19, 20, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 27, 28, 29, 30, 34, 35, 36, 38, 39, 40, 41, 42, 43, 44

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - संयोजन और सक्रिय सामग्रियां / कम्पोजीशन एंड एक्टिव इंग्रेडिएंट्स

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) निम्नलिखित सक्रिय सामग्रियों (औषधीय नमक) से निर्मित किया गया है
कृपया ध्यान दें कि ऊपर सूचीबद्ध की गयी प्रत्येक सक्रिय सामग्री के लिए यह दवा विभिन्न क्षमताओं में उपलब्ध हो सकती है।

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - दुष्प्रभाव / साइड-इफेक्ट्स

निम्नलिखित उन संभावित दुष्प्रभावों की सूची है जो Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) की सभी संयोजित सामग्रियों से हो सकते है। यह व्यापक सूची नहीं है। ये दुष्प्रभाव संभव हैं, लेकिन हमेशा नहीं होते हैं। कुछ दुष्प्रभाव दुर्लभ, लेकिन गंभीर हो सकते हैं। यदि आपको निम्नलिखित में से किसी भी दुष्प्रभाव का पता चलता है, और यदि ये समाप्त नहीं होते हैं तो अपने चिकित्सक से परामर्श लें।
यदि आपको किसी ऐसे दुष्प्रभाव का पता चलता है जो ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है तो चिकित्सीय सलाह के लिए अपने चिकित्सक से संपर्क करें। आप अपने स्थानीय खाद्य और दवा प्रबंधन अधिकारी को भी दुष्प्रभावों की सूचना दे सकते हैं।
संदर्भ: 3, 4, 10, 13, 21, 30, 40, 42, 45, 46, 47, 48
रिपोर्ट:

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - सावधानियां और प्रयोग विधि / प्रीकॉशन्स एंड हाउ तो उसे

इस दवा का प्रयोग करने से पहले, अपने चिकित्सक को अपनी वर्तमान दवाओं, अनिर्देशित उत्पादों (जैसे: विटामिन, हर्बल सप्लीमेंट आदि), एलर्जी, पहले से मौजूद बीमारियों, और वर्तमान स्वास्थ्य स्थितियों (जैसे: गर्भावस्था, आगामी सर्जरी आदि) के बारे में जानकारी प्रदान करें। कुछ स्वास्थ्य परिस्थितियां आपको दवा के दुष्प्रभावों के प्रति ज्यादा संवेदनशील बना सकती हैं। अपने चिकित्सक के निर्देशों के अनुसार दवा का सेवन करें या उत्पाद पर प्रिंट किये गए निर्देशों का पालन करें। खुराक आपकी स्थिति पर आधारित होती है। यदि आपकी स्थिति में कोई सुधार नहीं होता है या यदि आपकी हालत ज्यादा खराब हो जाती है तो अपने चिकित्सक को बताएं। महत्वपूर्ण परामर्श बिंदुओं को नीचे सूचीबद्ध किया गया है।
  • अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो सावधानी बरतें
  • अगर आपको छाती और फेफड़े के रोग हैं तो सावधानी से उपभोग करें
  • इससे रक्तस्राव हो सकता है
  • उच्च रक्तचाप से ग्रस्त रोगी
  • गर्भवती, गर्भवती होने या स्तनपान कराने की योजना बना रही हैं
  • गर्भावस्था
संदर्भ: 3, 49, 50

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - दवा पारस्परिक क्रिया / ड्रग इंटरेक्शन्स

यदि आप एक ही समय पर अन्य दवाओं या अनिर्देशित उत्पादों का सेवन करते हैं तो Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का प्रभाव परिवर्तित हो सकता है। यह दुष्प्रभावों के प्रति आपके जोखिम को बढ़ा सकता है या इसकी वजह से शायद आपकी दवा अच्छी तरह से काम ना करे। उन सभी दवाओं, विटामिनों और हर्बल सप्लीमेंट के बारे में अपने चिकित्सक को बताएं जिनका आप प्रयोग कर रहे हैं, ताकि आपके चिकित्सक दवा के परस्पर प्रभावों से बचने में आपकी सहायता कर सकें। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) निम्नलिखित दवाओं और उत्पादों के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है:
संदर्भ: 3, 8, 40, 50
और अधिक जाने: परस्पर प्रभाव

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - निषेध / कन्ट्राइंडिकेशन्स

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) के लिए अतिसंवेदनशीलता एक निषेध है। इसके अतिरिक्त, यदि आपको निम्नलिखित समस्याएं हैं तो Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) नहीं लिया जाना चाहिए:
संदर्भ: 10, 13, 50, 51

कहॉ से खरीदें Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट)

यहां क्लिक करें पास के फार्मेसियों / चिकित्सा दुकानों को खोजने के लिए जहां Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) खरीद सकते हैं।

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न / फ्रेक्वेंटली अस्केद क़ुएस्तिओन्स

  • क्या यौन उत्तेजक और मूत्र संबंधी विकार के लिए Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का प्रयोग किया जा सकता है?
    जी हाँ, यौन उत्तेजक और मूत्र संबंधी विकार Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) के सबसे सामान्य प्रयोग बताये गए हैं। कृपया, पहले चिकित्सक से परामर्श लिए बिना यौन उत्तेजक और मूत्र संबंधी विकार के लिए Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का प्रयोग ना करें। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) के सामान्य प्रयोगों के रूप में अन्य मरीज क्या बताते हैं यह जानने के लिए यहां क्लिक करे
  • अपनी स्थितियों में सुधार देखने से पहले मुझे कितने समय तक Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) प्रयोग करने की जरुरत होती है?
    all4insure.ru वेबसाइट के प्रयोगकर्ताओं ने 1 सप्ताह और उसी दिन को अपनी स्थितियों में सुधार देखने से पहले लगने वाले सबसे सामान्य समय के रूप में बताया है। ये समय यह नहीं दर्शाते हैं कि आप क्या अनुभव कर सकते हैं या आपको इस दवा का प्रयोग कैसे करना चाहिए। आपको कितने समय तक Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का सेवन करने की जरुरत है इसके बारे में जानकारी पाने के लिए कृपया अपने चिकित्सक से संपर्क करें। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) की प्रभावशीलता के बारे में अन्य मरीज क्या बताते हैं यह पता लगाने के लिए यहां क्लिक करे
  • आपको कितनी बार Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) प्रयोग करने की जरुरत होती है?
    all4insure.ru वेबसाइट के प्रयोगकर्ताओं ने दिन में दो बार और दिन में एक बार को Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) प्रयोग करने की सबसे सामान्य आवृत्ति के रूप में बताया है। आपको कितनी बार Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का प्रयोग करने की जरुरत है इस पर अपने चिकित्सक की सलाह का पालन करें। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) प्रयोग करने की आवृत्ति के रूप में अन्य मरीज क्या बताते हैं यह पता लगाने के लिए यहां क्लिक करे
  • क्या मुझे खाली पेट, खाने से पहले या खाने के बाद Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का सेवन करना चाहिए?
    all4insure.ru वेबसाइट के प्रयोगकर्ताओं ने सबसे सामान्य तौर पर खाने के बाद Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का सेवन करने के बारे में बताया है। हालाँकि, यह इस बात को नहीं दर्शाता है कि आपको यह दवा कैसे लेनी चाहिए। आपको यह दवा कैसे खानी चाहिए इस पर अपने चिकित्सक के सुझाव का पालन करें। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) प्रयोग करने के समय के रूप में अन्य मरीज क्या बताते हैं यह पता लगाने के लिए यहां क्लिक करे
  • इसका सेवन करने के दौरान क्या गाड़ी चलाना या भारी मशीन संचालित करना सुरक्षित है?
    यदि Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) दवा का सेवन करने के बाद दुष्प्रभावों के रूप में आपको निद्रा, चक्कर आना, निम्न रक्तचाप या सिरदर्द का अनुभव होता है तो गाड़ी या भारी मशीन चलाना सुरक्षित नहीं होता है। यदि दवा खाने पर आपको नींद आती है, चक्कर आता है या आपका रक्तचाप बेहद कम हो जाता है तो आपको गाड़ी नहीं चलानी चाहिए। दवा विक्रेता दवाओं के साथ शराब ना पीने की सलाह देते हैं क्योंकि शराब नींद के दुष्प्रभाव को तेज कर देता है। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का प्रयोग करते समय कृपया इन प्रभावों का ध्यान रखें। अपने शरीर और स्वास्थ्य स्थितियों के अनुसार सुझाव पाने के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
  • क्या यह दवा या उत्पाद व्यसनी या आदत बनाने वाला है?
    ज्यादातर दवाओं में व्यसन का दुरूपयोग की संभावना नहीं होती है। आमतौर पर, सरकार उन दवाओं को नियंत्रित पदार्थ के रूप में वर्गीकृत कर देती है जो व्यसनी हो सकती हैं। भारत में अनुसूची H या X और अमेरिका में अनुसूची II-V इसके उदाहरण के लिए रूप में शामिल हैं। आपकी दवा दवाओं की ऐसी किसी विशेष श्रेणी से संबंधित नहीं है इस बात को सुनिश्चित करने के लिए कृपया उत्पाद पैकेज देखें। अंत में, चिकित्सक की सलाह के बिना खुद दवाएं ना लें और दवाओं के लिए अपने शरीर की निर्भरता ना बढ़ाएं।
  • क्या इसका सेवन तुरंत बंद किया जा सकता है या मुझे इसे धीरे-धीरे बंद करना होगा?
    प्रतिघात प्रभावों की वजह से कुछ दवाओं को धीरे-धीरे कम करने की जरुरत होती है या उन्हें तुरंत बंद नहीं किया जा सकता है। अपने शरीर, स्वास्थ्य और आपके द्वारा प्रयोग की जाने वाली अन्य दवाओं के अनुसार सुझाव पाने के लिए कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श लें।

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां

खुराक छूटना

यदि आपकी कोई खुराक छूट जाती है तो याद आने पर जल्दी से जल्दी खुराक का सेवन करें। यदि आपकी अगली खुराक का समय निकट है तो छूटी हुई खुराक छोड़ दें और अपने खुराक का शिड्यूल दोबारा शुरू करें। छूटी हुई खुराक की भरपाई करने के लिए अतिरिक्त दवा का सेवन ना करें। यदि आप नियमित रूप से अपनी खुराक लेना भूल जा रहे हैं तो अलार्म लगाएं या अपने परिवार के किसी सदस्य को याद दिलाने के लिए कहें। यदि हाल में आपने कई खुराकें छोड़ दी हैं तो छूटी हुई दवाओं की भरपाई के लिए समय में परिवर्तन और नए समय के बारे में चर्चा करने के लिए कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श लें।
संदर्भ: 52, 53, 54, 55

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) की अधिक मात्रा

  • निर्देशित खुराक से ज्यादा का सेवन ना करें। ज्यादा दवा के उपयोग से आपके लक्षणों में सुधार नहीं होगा, बल्कि इससे विषाक्तता या गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं। यदि आपको लगता है कि आपने या किसी और ने Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) की ज्यादा खुराक ले ली है तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल या नर्सिंग होम के आपातकालीन विभाग में जाएँ। आवश्यक जानकारी पाने में चिकित्सकों की सहायता करने के लिए अपने साथ मेडिसिन बॉक्स, कंटेनर या लेबल ले जाएँ।
  • यदि आपको पता है कि किसी व्यक्ति की स्थिति आपके समान है या यदि ऐसा प्रतीत होता है कि उनकी बीमारी आपके जैसी है तो भी कभी अपनी दवाएं दूसरे लोगों को ना दें। इसकी वजह से दवा की अधिमात्रा हो सकती है।
  • ज्यादा जानकारी के लिए अपने चिकित्सक या दवा विक्रेता या उत्पाद पैकेज से परामर्श लें।
संदर्भ: 56, 57, 58

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) का संग्रहण

  • दवाओं को गर्मी और सीधी रोशनी से दूर, कमरे के तापमान पर रखें। दवाओं को फ्रीज़ में ना रखें जब तक कि अंदर दिए गए पैकेज के अनुसार ऐसा करने का निर्देश ना दिया गया हो। दवाओं को बच्चों और पालतू जानवरों से दूर रखें।
  • दवाओं को शौचालय या नाली में ना बहाएं जब तक कि ऐसा करने के लिए निर्देशित नहीं किया है। इस प्रकार से फेंकी गयी दवाएं पर्यावरण को नुकसान पहुंचा सकती हैं। Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) को सुरक्षित रूप से समाप्त करने के बारे में और अधिक जानकारी पाने के लिए अपने दवा विक्रेता या चिकित्सक से परामर्श लें।
संदर्भ: 59, 60, 61, 62

एक्स्पायर्ड Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट)

  • एक्स्पायर्ड Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) की एक खुराक लेते हुए प्रतिकूल घटना उत्पादन की संभावना नहीं है। हालाँकि, उचित सलाह के लिए या यदि आप बीमार या बेचैन महसूस करते हैं तो कृपया अपने प्रमुख स्वास्थ्य प्रदाता या दवा विक्रेता से संपर्क करें। एक्स्पायर्ड दवाएं आपकी निर्देशित स्थितियों का उपचार करने में अप्रभावी हो सकती हैं। जोखिम से बचने के लिए, एक्स्पायर्ड दवा ना लेना महत्वपूर्ण होता है। यदि आपको कोई पुरानी बीमारी है जिसके लिए आपको निरंतर दवा लेने की आवश्यकता होती है जैसे हृदय रोग, मिर्गी, और प्राणघातक एलर्जी तो अपने प्रमुख स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता के साथ संपर्क में रहना ज्यादा सुरक्षित होता है ताकि आपके पास दवाओं की बिल्कुल नयी आपूर्ति उपलब्ध रह सके।
संदर्भ: 63, 64

खुराक की जानकारी

कृपया अपने चिकित्सक या दवा विक्रेता से परामर्श लें या उत्पाद पैकेज देखें।

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - पैकेज और क्षमताएं

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) निम्नलिखित पैकेज और क्षमताओं में उपलब्ध है
Patanjali Chandraprabha Vati Tablet (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) पैकेज: 20gm

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - निर्माता

दवा निम्नलिखित कंपनियों द्वारा निर्मित की जाती है

Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - जनसांख्यिकीय जानकारी

संदर्भ

  1. JAYANAND MANJHI, BEENA RAWAT, ANVESHA SINHA EFFECT OF BALSAMODENDRON MUKUL GUM RESIN EXTRACT ON PAIN RESPONSE IN OSTEOARTHRITIC RATS - प्राप्त: October 12, 2016.
  2. Carlos Carrasco-Gallardo, Leonardo Guzmán, and Ricardo B. Maccioni Shilajit: A Natural Phytocomplex with Potential Procognitive Activity - प्राप्त: October 12, 2016.
  3. Reshu Gupta, Vidushi Yadav and Manvi Rastogi A REVIEW ONIMPORTANCE OF NATURAL SWEETENER, A ZERO CALORIE PLANT– STEVIA - HAVING MEDICINAL AND COMMERCIAL IMPORTANCE - प्राप्त: October 12, 2016.
  4. Mulik SB, Jha CB. Physicochemical characterization of an Iron based Indian traditional medicine: Mandura Bhasma. Anc Sci Life. 2011;31(2):52-7. - प्राप्त: October 12, 2016.
  5. Das Sanjita, Rizvan Mohd., Basu S.P., Das Saumya Therapeutic Potentials of Bambusa bambos Druce - प्राप्त: October 12, 2016.
  6. Verma SK, Jain V, Katewa SS. Blood pressure lowering, fibrinolysis enhancing and antioxidant activities of cardamom (Elettaria cardamomum). Indian J Biochem Biophys. 2009;46(6):503-6. - प्राप्त: October 12, 2016.
  7. Ranasinghe P, Pigera S, Premakumara GA, Galappaththy P, Constantine GR, Katulanda P. Medicinal properties of 'true' cinnamon (Cinnamomum zeylanicum): a systematic review. BMC Complement Altern Med. 2013;13:275. - प्राप्त: October 12, 2016.
  8. Seyed Fazel Nabavi, Arianna Di Lorenzo, Morteza Izadi, Eduardo Sobarzo-Sánchez, Maria Daglia and Seyed Mohammad Nabavi Antibacterial Effects of Cinnamon: From Farm to Food, Cosmetic and Pharmaceutical Industries file:/>
  9. Ravindra G. Mali, Raju R. Wadekar Baliospermum montanum (Danti): Ethnobotany, phytochemistry and pharmacology- A review - प्राप्त: October 12, 2016.
  10. KOHLI K R, NIPANIKAR S U AND KADBHANE K P A COMPREHENSIVE REVIEW ON TRIVRIT [OPERCULINA TURPETHUM SYN. IPOMOEA TURPETHUM] - प्राप्त: October 12, 2016.
  11. Mooss NS. Salt in ayurveda I. Anc Sci Life. 1987;6(4):217-37. - प्राप्त: October 12, 2016.
  12. Debojyoti Basu, Divyesh Sharma, Vipul Darji, Honey Barot, Jyoti Patel, Dinkal Modi and *Prof. Dr. Dhrubo Jyoti Sen DISCARD BIOCHEMICAL MALFUNCTION BY BLACK SALT THROUGH NATUROPATHY - प्राप्त: October 12, 2016.
  13. Apurbo Sarker, Arittra Ghosh, Kinsuk Sarker, Debojyoti Basu and Prof. Dr. Dhrubo Jyoti Sen HALITE; THE ROCK SALT: ENORMOUS HEALTH BENEFITS - प्राप्त: October 12, 2016.
  14. Minaiyan M, Ghannadi A, Movahedian A, Hakim-elahi I. Effect of Hordeum vulgare L. (Barley) on blood glucose levels of normal and STZ-induced diabetic rats. Res Pharm Sci. 2014;9(3):173-8. - प्राप्त: October 12, 2016.
  15. Holloway AC, Mueller-harvey I, Gould SW, Fielder MD, Naughton DP, Kelly AF. The effect of copper(II), iron(II) sulphate, and vitamin C combinations on the weak antimicrobial activity of (+)-catechin against Staphylococcus aureus and other microbes. Metallomics. 2012;4(12):1280-6. - प्राप्त: October 12, 2016.
  16. Kumari M, Ashok BK, Ravishankar B, Pandya TN, Acharya R. Anti-inflammatory activity of two varieties of Pippali (Piper longum Linn.). Ayu. 2012;33(2):307-10. - प्राप्त: October 12, 2016.
  17. J Clin Diagn Res. 2015 Apr; 9(4): FF01_FF04. Published online 2015 Apr 1. doi: 10.7860/JCDR/2015/8953.5767 PMCID: PMC4437082 Preventive Role of Indian Black Pepper in Animal Models of Alzheimers Disease - प्राप्त: October 12, 2016.
  18. Al-nahain A, Jahan R, Rahmatullah M. Zingiber officinale: A Potential Plant against Rheumatoid Arthritis. Arthritis. 2014;2014:159089. - प्राप्त: October 12, 2016.
  19. Taufiq-ur-rahman M, Shilpi JA, Ahmed M, Faiz hossain C. Preliminary pharmacological studies on Piper chaba stem bark. J Ethnopharmacol. 2005;99(2):203-9. - प्राप्त: October 12, 2016.
  20. Bhandari U, Kanojia R, Pillai KK. Effect of ethanolic extract of Embelia ribes on dyslipidemia in diabetic rats. Int J Exp Diabetes Res. 2002;3(3):159-62. - प्राप्त: October 12, 2016.
  21. Ekta Singh, Sheel Sharma, Ashutosh Pareek, Jaya Dwivedi, Sachdev Yadav and Swapnil Sharma Phytochemistry, traditional uses and cancer chemopreventive activity of Amla (Phyllanthus emblica): The Sustainer. - प्राप्त: October 12, 2016.
  22. Tanaka M, Kishimoto Y, Saita E, et al. Terminalia bellirica Extract Inhibits Low-Density Lipoprotein Oxidation and Macrophage Inflammatory Response in Vitro. Antioxidants (Basel). 2016;5(2) - प्राप्त: October 12, 2016.
  23. Makihara H, Koike Y, Ohta M, et al. Gallic Acid, the Active Ingredient of Terminalia bellirica, Enhances Adipocyte Differentiation and Adiponectin Secretion. Biol Pharm Bull. 2016;39(7):1137-43. - प्राप्त: October 12, 2016.
  24. Makihara H, Shimada T, Machida E, et al. Preventive effect of Terminalia bellirica on obesity and metabolic disorders in spontaneously obese type 2 diabetic model mice. J Nat Med. 2012;66(3):459-67. - प्राप्त: October 12, 2016.
  25. Singh D, Singh D, Choi SM, et al. Effect of Extracts of Terminalia chebula on Proliferation of Keratinocytes and Fibroblasts Cells: An Alternative Approach for Wound Healing. Evid Based Complement Alternat Med. 2014;2014:701656. - प्राप्त: October 12, 2016.
  26. Mahesh R, Bhuvana S, Begum VM. Effect of Terminalia chebula aqueous extract on oxidative stress and antioxidant status in the liver and kidney of young and aged rats. Cell Biochem Funct. 2009;27(6):358-63. - प्राप्त: October 12, 2016.
  27. Laribi B, Kouki K, M'hamdi M, Bettaieb T. Coriander (Coriandrum sativum L.) and its bioactive constituents. Fitoterapia. 2015;103:9-26. - प्राप्त: October 12, 2016.
  28. Nisha Sharma and Purshotam Kaushik Medicinal, Biological and Pharmacological Aspects of Plumbago zeylanica (Linn.) - प्राप्त: October 12, 2016.
  29. Sharma Komal, Bairwa Ranjan, Chauhan neelam, Srivastva Birendra, Saini Neeraj KumarSharma Komal, Bairwa Ranjan, Chauhan neelam, Srivastva Birendra, Saini Neeraj Kumar BERBERIS ARISTATA: A REVIEW - प्राप्त: October 12, 2016.
  30. M.D. UKANI, N.K MEHTA and D.D NANAVATI ACONITUM HETEROPHYLLUM (ATIVISHA) IN AYURVEDA - प्राप्त: October 12, 2016.
  31. Mishra S, Palanivelu K (January–March 2008). "The effect of curcumin (turmeric) on Alzheimer's disease: An overview". Ann Indian Acad Neurol. 11 (1): 13–9. doi:10.4103/0972-2327.40220. PMC 2781139free to read. PMID 19966973 - प्राप्त: October 12, 2016.
  32. Maithili Karpaga; Selvi, N.; Sridhar, M. G.; Swaminathan, R. P.; Sripradha, R. (May 2014). "Efficacy of turmeric as adjuvant therapy in type 2 diabetic patients.". Indian Journal of Clinical Biochemistry. 30 (2): 180–186. doi:10.1007/s-2. PMC 4393385free to read. PMID 25883426. - प्राप्त: October 12, 2016.
  33. Prasad, S; Aggarwal, B. B.; Benzie, I. F. F.; Wachtel-Galor, S (2011). Benzie IFF, Wachtel-Galor S, eds. Turmeric, the Golden Spice: From Traditional Medicine to Modern Medicine; In: Herbal Medicine: Biomolecular and Clinical Aspects; chap. 13. 2nd edition. CRC Press, Boca Raton (FL). PMID 22593922 - प्राप्त: October 12, 2016. (Accessed on 11/5/16)
  34. Zeng WC, Zhang Z, Gao H, Jia LR, He Q. Chemical composition, antioxidant, and antimicrobial activities of essential oil from pine needle (Cedrus deodara). J Food Sci. 2012;77(7):C824-9. - प्राप्त: October 12, 2016.
  35. Saha S, Ghosh S. Tinospora cordifolia: One plant, many roles. Anc Sci Life. 2012;31(4):151-9. - प्राप्त: October 12, 2016.
  36. Agbonlahor Okhuarobo, Joyce Ehizogie Falodun, Osayemwenre Erharuyi, Vincent Imieje, Abiodun Falodun, and Peter Langer Harnessing the medicinal properties of Andrographis paniculata for diseases and beyond: a review of its phytochemistry and pharmacology - प्राप्त: October 12, 2016.
  37. Pirzada AM, Ali HH, Naeem M, Latif M, Bukhari AH, Tanveer A. Cyperus rotundus L.: Traditional uses, phytochemistry, and pharmacological activities. J Ethnopharmacol. 2015;174:540-60 - प्राप्त: October 12, 2016.
  38. G. Divya, S. Gajalakshmi, S. Mythili & A. Sathiavelu Pharmacological Activities of Acorus calamus: A Review - प्राप्त: October 12, 2016.
  39. Rafie Hamidpour, Soheila Hamidpour, Mohsen Hamidpour, Mina Shahlari Camphor (Cinnamomum camphora), a traditional remedy with the history of treating several diseases - प्राप्त: October 12, 2016.
  40. Om Prakash Rout, Rabinarayan Acharya, Sagar Kumar Mishra Oleogum Resin Guggulu: A review of medicinal evidence for its therapeutic properties - प्राप्त: October 12, 2016.
  41. ANUYA REGE, PARIKSHIT JUVEKAR, ARCHANA JUVEKAR IN VITRO ANTIOXIDANT AND ANTI-ARTHRITIC ACTIVITIES OF SHILAJIT - प्राप्त: October 12, 2016.
  42. Phytochemical and Pharmacognostic study of Piper nigrum (Black Pepper) - प्राप्त: October 12, 2016.
  43. "THERAPEUTIC USES OF CURCUMA LONGA (TURMERIC)" - प्राप्त: October 12, 2016. (Accessed on 11/5/16)
  44. Daswani PG, Brijesh S, Tetali P, Birdi TJ. Studies on the activity of Cyperus rotundus Linn. tubers against infectious diarrhea. Indian J Pharmacol. 2011;43(3):340-4. - प्राप्त: October 12, 2016.
  45. Velmurugan C, Vivek B, Wilson E, Bharathi T, Sundaram T. Evaluation of safety profile of black shilajit after 91 days repeated administration in rats. Asian Pac J Trop Biomed. 2012;2(3):210-4. - प्राप्त: October 12, 2016.
  46. K. SOURAVI AND P.E. RAJASEKHARAN A REVIEW ON THE PHARMACOLOGY OF EMBELIA RIBES BURM.F.-A THREATENED MEDICINAL PLANT - प्राप्त: October 12, 2016.
  47. "INTERNATIONAL JOURNAL OF PHARMACEUTICAL SCIENCES AND RESEARCH" - प्राप्त: October 12, 2016. (Accessed on 11/5/16)
  48. Kumar Amit, Vandana MEDICINAL PROPERTIES OF ACORUS CALAMUS - प्राप्त: October 12, 2016.
  49. Dr. K. H. Krishnamurthy Elaa or cardamom ( Elettaria cardamomum or repens) - प्राप्त: October 12, 2016.
  50. UMM Turmeric - प्राप्त: October 12, 2016. (Accessed on 11/5/16)
  51. Ghosh Kumar Benoy, Datta Kumar Animesh, Mandal Aninda, Dubey Kumari Priyanka and Halder Sandip AN OVERVIEW ON ANDROGRAPHIS PANICULATA (BURM.F.) NEES - प्राप्त: October 12, 2016.
  52. - प्राप्त: July 14, 2016.
  53. - प्राप्त: July 3, 2016.
  54. Cancer.Net (2014). - प्राप्त: July 3, 2016.
  55. Schachter, S.C., Shafer, P. O. &; Sirven, J.I. (2013). - प्राप्त: May 28, 2016.
  56. National Institute of Drug Abuse (2010). - प्राप्त: July 21, 2016.
  57. eMedicinehealth (2016). - प्राप्त: July 21, 2016.
  58. Centers for Disease Control and Prevention (2010). - प्राप्त: July 21, 2016.
  59. Centers for Disease Control and Prevention. December 12, 2011. - प्राप्त: June 10, 2016.
  60. The Center for Improving Medication Management and the National Council on Patient Information and Education. - प्राप्त: June 10, 2016.
  61. U.S. Food and Drug Administration. December 24, 2013. - प्राप्त: June 10, 2016.
  62. World Health Organization: - प्राप्त: July 1, 2016.
  63. Lyon, R. C., Taylor, J. S., Porter, D. A., et al. (2006) Stability profiles of drug products extended beyond labeled expiration dates. Journal of Pharmaceutical Sciences; 95:1549-60 - प्राप्त: July 3, 2016.
  64. Harvard Medical School (2016). - प्राप्त: May 1, 2016.

इस पन्ने को उद्घृत करें

Page URL

HTML Link

APA Style Citation

  • Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - हिंदी, दवा, ड्रग, उसे, जानकारी, प्रयोग, फायदे, लाभ, उपयोग, दुष्प्रभाव, साइड-इफेक्ट्स, समीक्षाएं, संयोजन, पारस्परिक क्रिया, सावधानिया तथा खुराक - Patanjali Ayurved - all4insure.ru - Patanjali. (n.d.). Retrieved January 16, 2018, from http://all4insure.ru/patanjali-hi/patanjali-chandraprabha-vati-tablet

MLA Style Citation

  • "Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - हिंदी, दवा, ड्रग, उसे, जानकारी, प्रयोग, फायदे, लाभ, उपयोग, दुष्प्रभाव, साइड-इफेक्ट्स, समीक्षाएं, संयोजन, पारस्परिक क्रिया, सावधानिया तथा खुराक - Patanjali Ayurved - all4insure.ru - Patanjali" all4insure.ru. N.p., n.d. Web. 16 Jan. 2018.

Chicago Style Citation

  • "Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi (पतंजलि चंद्रप्रभा वटी टैबलेट) - हिंदी, दवा, ड्रग, उसे, जानकारी, प्रयोग, फायदे, लाभ, उपयोग, दुष्प्रभाव, साइड-इफेक्ट्स, समीक्षाएं, संयोजन, पारस्परिक क्रिया, सावधानिया तथा खुराक - Patanjali Ayurved - all4insure.ru - Patanjali" all4insure.ru. Accessed January 16, 2018. http://all4insure.ru/patanjali-hi/patanjali-chandraprabha-vati-tablet.

अंतिम अद्यतन तिथि

यह पृष्ठ पिछले 1/05/2018 पर अद्यतन किया गया था।
This page provides information for Patanjali Chandraprabha Vati Tablet in Hindi.

हाल की गतिविधि

Read Reviews » पतंजलि चंद्रप्रभा वटी

Related pages


apidra solostar dosagewhat is the use of cetirizine hydrochloride tabletschia tabletsurofitmeva c tabletsurifast tabletsiberian ginseng in teluguare glycerin suppositories habit formingmeglow reviewmsd pharma indiavibativ package insertdiclo pepigastric pain symptomsinj meromachair serum advantagestribestan resultszylet eye dropsdiar-ezevemoxastragalus membranaceus root extractsnake venom injectionsclorexutodin tabletvitazyme drops side effectsgestin tabletmodus tablet side effectsactavis benefitsapresol medicinecalapure lotion useovidac injection side effectsrazo 20 mg usesrothacinnamo tabletwhat is ketonalvitamin e acetate benefitsbenadryl cough syrup for kidsulcerease ingredientslactarekiddicare reviewsdomstal for babiesmagaldrate mechanism of actionchanderprabhavatitablets for migraine in indiastiefel oilatumnicardianizonide 200 dtxyzal 5mg dosagemedicine nimesulideadenuric side effectspharma pulsecetirizine hydrochloride and pseudoephedrine hydrochloridedecolgen medicinehayfever cetirizineair fast tabletkesh king hair oil usesdecolgen paracetamolhow to spray salivabuy ventipulminnaproxen 250 mg side effectsduphalacibscim tablet benefitsroxid 150 throat infectionskinova homeopathic medicinesupprelin implantjhandu baamnucoxia mr uselameson drugkalium tabletsymbicort compositiontrosyd creamrutin capsuleaerius dosage for kidsovacet tablets used for what